Pages

Followers

Tuesday, April 30, 2013

ruthana aur manaanaa

रूठना और मनाना ,प्यार का तराना है,
तेरी मनाने की अदा ,मेरे रूठने का बहाना है ।
तेरी हर अदा पर हम जां निसार करते हैं ,
जिद पर अड़ना ,तेरी आँखों में प्यार पाना है ।

डॉ अ कीर्तिवर्धन
8 2 6 5 8 2 1 8 0 0

No comments:

Post a Comment