Pages

Followers

Thursday, August 6, 2009

samwaad

जीवन मे संवाद बनाए रखिए
वाद तक चलाए रखिए
विवाद ना होने दीजिए
अन्यथा प्रतिवाद को रास्ता मिल जाएगा.

संवाद जरूरी है मतभेद हटाए मे
वाद जरूरी है बात समझाने मे
विवाद से कुछ हाल नाही होता
प्रतिवाद दुश्मन बना देता है.

संवाद मे मधुरता है
वाद मे अधीरता है
विवाद मे गुस्सा है
प्रतिवाद मे निराशा है.

संवाद मन के भावों को दर्शाता है
वाद तर्कों को आधार बनाता है
विवाद कुतर्कों का हिमायती कहलाता है
प्रतिवाद केवल बदले का भाव लाता है.

इसलिए जीवन मे सांवा बनाए रखिए
वाद को आधार बनाए रख्ये
विवाद को जड़ से मिटाकर
जीवन खुशहाल बनाए रखिए.

आ कीर्तिवर्धन

No comments:

Post a Comment