Pages

Followers

Wednesday, October 24, 2012

shila banane ka matlab


पहाड़ /पर्वत  अथवा शिला होने का मतलब----

संवेदनाएं जब मर जाती हैं
जीवन पहाड़ बन जाता है
हर पल, पल-पल जीवन का
शिला सा भारी हो जाता है |

अहल्या क्यों शिला बनी थी
आज समझ में आता है
परित्याग जब किया पति ने
पत्थर बनना ही भाता है |

संवेदनाओं के दो बोल भी
जब नहीं कहीं मिले
एकांत का एक एक पल
शिला सा भारी हो जाता है |

परित्यक्ता अहल्या से जब
राम ने आ संवाद किया
संवेदना कि बातों से
उलझन को भी दूर किया |

पिघल गई वह पाषाण प्रतिमा
आंसू से सारा पाप धुला
संवेदना के दो बोल से
अहल्या का उद्धार हुआ |

डॉ अ कीर्तिवर्धन
8265821800

No comments:

Post a Comment