Pages

Followers

Saturday, August 24, 2013

samvaad

 संवाद

जीवन में संवाद बनाए रखिये
वाद तक चलाए रखिये
विवाद ना होने दीजिये
अन्यथा प्रतिवाद को रास्ता मिल जायेगा।

संवाद जरुरी है मतभेद हटाने मे
वाद जरुरी है बात समझाने मे
विवाद से कुछ हल नहीं होता
प्रतिवाद दुश्मन बना देता है।

संवाद मे मधुरता है
वाद मे अधीरता है
विवाद मे गुस्सा है
प्रतिवाद मे निराशा है।

संवाद मन के भावों को दर्शाता है
वाद तर्कों को आधार बनाता है
विवाद कुतर्कों का हिमायती कहलाता है
प्रतिवाद केवल बदले का भाव लाता है।

इसलिए जीवन मे संवाद बनाए रखिये
वाद को आधार बनाए रखिये
विवाद को जड़ से मिटा कर
जीवन को खुश हाल बनाये रखिये.।

डॉ अ कीर्तिवर्धन

8 comments:

  1. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (25-08-2013) के चर्चा मंच -1348 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  2. प्रतिवाद,विवाद,संवाद - वाद के ही सारे रूप !

    ReplyDelete
  3. बहुत सटीक और सार्थक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete
  5. arun ji namaskar,
    charcha manch par sthan dene ke liye aabhar.

    ReplyDelete
  6. pratibha ji namaskar,
    dhanyawad ,yah to sach hai ki sab vaad ke hi roop hain magar thode se prayas se vaad se samvaad tathaa laaparvaahi se vivaad banataa hai

    ReplyDelete