Pages

Followers

Tuesday, September 10, 2013

manjilen raaston ki mohtaaz nahi hoti

मंजिलें , रास्तों की मोहताज़ नहीं होती ,
हौसलों के लिए पंख , बुनियाद नहीं होती ।
मेरे टूटे हुए परों का हौसला देखा तुमने ,
चोटियों को छूने की राह , आसान नहीं होती ।

डॉ अ कीर्तिवर्धन

1 comment:

  1. सुंदर रचना...
    आप की ये रचना आने वाले शुकरवार यानी 13 सितंबर 2013 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है... ताकि आप की ये रचना अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित है... आप इस हलचल में शामिल अन्य रचनाओं पर भी अपनी दृष्टि डालें...इस संदर्भ में आप के सुझावों का स्वागत है...


    आप सब की कविताएं कविता मंच पर आमंत्रित है।
    हम आज भूल रहे हैं अपनी संस्कृति सभ्यता व अपना गौरवमयी इतिहास आप ही लिखिये हमारा अतीत के माध्यम से। ध्यान रहे रचना में किसी धर्म पर कटाक्ष नही होना चाहिये।
    इस के लिये आप को मात्रkuldeepsingpinku@gmail.com पर मिल भेजकर निमंत्रण लिंक प्राप्त करना है।



    मन का मंथन [मेरे विचारों का दर्पण]

    ReplyDelete