Pages

Followers

Wednesday, November 20, 2013

raat ke baad

रात के बाद, सुबह का उजाला होगा,
गहन तम, सूरज का निवाला होगा।
थकने के बाद विश्राम अतिआवश्यक,
सुबह उठने पर, जोश निराला होगा।

डॉ अ कीर्तिवर्धन
विद्यालक्ष्मी निकेतन
53 -महालक्ष्मी एन्क्लेव
मुज़फ्फरनगर -251001
8265821800

No comments:

Post a Comment