Pages

Followers

Thursday, December 11, 2014

khaamoshi ki jubaan

खामोशी की भी अपनी जुबान होती है,
कुछ कही- अनकही पहचान होती है।
समझ न सके खामोश इबारतों को वो,
वाचाल होना ही जिनकी शान होती है।

डॉ अ कीर्तिवर्धन

No comments:

Post a Comment